About Us

वह धन्य देश की माटी है, जिसमें भामा सा लाल पला उस दानवीर की यश गाथा को, मिटा सका क्या काल भला।

It is the soil of a blessed country, in which Bhama is reddish. That monster's success story, Mate did not know what happened yesterday

माहौर वैश्य समाज की शान दानवीर भामाशाह (1542 - लगभग 1598) बाल्यकाल से मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप के मित्र, सहयोगी और विश्वासपात्र सलाहकार थे। अपरिग्रह को जीवन का मूलमंत्र मानकर संग्रहण की प्रवृत्ति से दूर रहने की चेतना जगाने में आप सदैव अग्रणी रहे। मातृ-भूमि के प्रति अगाध प्रेम था और दानवीरता के लिए भामाशाह नाम इतिहास में अमर है।दानवीर भामाशाह का जन्म राजस्थान के मेवाड़ राज्य में 29 अप्रैल 1547 को वैश्य परिवार में हुआ। भामाशाह का निष्ठापूर्ण सहयोग महाराणा प्रताप के जीवन में महत्वपूर्ण और निर्णायक साबित हुआ। मातृ-भूमि की रक्षा के लिए महाराणा प्रताप का सर्वस्व होम हो जाने के बाद भी उनके लक्ष्य को सर्वोपरि मानते हुए अपनी सम्पूर्ण धन-संपदा अर्पित कर दी। यह सहयोग तब दिया जब महाराणा प्रताप अपना अस्तित्व बनाए रखने के प्रयास में निराश होकर परिवार सहित पहाड़ियों में छिपते भटक रहे थे। मेवाड़ के अस्मिता की रक्षा के लिए दिल्ली गद्दी का प्रलोभन भी ठुकरा दिया। महाराणा प्रताप को दी गई उनकी हरसम्भव सहायता ने मेवाड़ के आत्म सम्मान एवं संघर्ष को नई दिशा दी। भामाशाह अपनी दानवीरता के कारण इतिहास में अमर हो गए। भामाशाह के सहयोग ने ही महाराणा प्रताप को जहाँ संघर्ष की दिशा दी, वहीं मेवाड़ को भी आत्मसम्मान दिया। कहा जाता है कि जब महाराणा प्रताप अपने परिवार के साथ जंगलों में भटक रहे थे, तब भामाशाह ने अपनी सारी जमा पूंजी महाराणा को समर्पित कर दी। तब भामाशाह की दानशीलता के प्रसंग आसपास के इलाकों में बड़े उत्साह के साथ सुने और सुनाए जाते थे। हल्दी घाटी के युद्ध में पराजित महाराणा प्रताप के लिए उन्होंने अपनी निजी सम्पत्ति में इतना धन दान दिया था कि जिससे २५००० सैनिकों का बारह वर्ष तक निर्वाह हो सकता था। प्राप्त सहयोग से महाराणा प्रताप में नया उत्साह उत्पन्न हुआ और उन्होंने पुन: सैन्य शक्ति संगठित कर मुगल शासकों को पराजित करा और फिर से मेवाड़ का राज्य प्राप्त किया।वह बेमिसाल दानवीर एवं त्यागी पुरुष थे। आत्मसम्मान और त्याग की यही भावना उनके स्वदेश, धर्म और संस्कृति की रक्षा करने वाले देश-भक्त के रूप में शिखर पर स्थापित कर देती है। धन अर्पित करने वाले किसी भी दानदाता को दानवीर भामाशाह कहकर उसका स्मरण-वंदन किया जाता है।

Our Strength

Bhamashah Kutumb Members List

Our Team

The best teamwork comes from men who are working independently toward one goal in unison

Devendra Kumar Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Manoj Kumar Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Sanjeev Kumar Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Narendra Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Sanjay Veer Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Kripendra Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Krishna Murari Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Rakesh Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Pawan Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Girish Gupta

Member Bhamashah Kutumb

Contact Us

In case you need any help please feel free to contact us

Address

F-2 Neelkanth Market
Main Road,Mandawali New Delhi-110092

Mobile
  • Mr. Devendra Gupta +91 9891481507
  • Mr. Manoj Kumar Gupta +91 9811094525
  • Mr. Sanjeev Gupta +91 8800337770